चाय बनाने के बाद भूल कर भी ना फेके बची हुई पत्ती और ऐसे करे इस्तेमाल

चाय बनाने के बाद भूल कर भी ना फेके बची हुई पत्ती और ऐसे करे इस्तेमाल:tea bag

पूरे भारत में लोग चाय के बहुत शौकीन हैं। तभी तो आधे से ज्यादा लोगों की शुरुआत चाय से ही होती है। हर तरह की चाय बनाने के लिए चाय पत्ती का इस्तेमाल किया जाता है। चाहे वह ब्लैक टी हो या ग्रीन टी और अक्सर देखा जाता है कि चाय बनने के बाद बची पत्ती को छानकर बेकार समझ कर फेंक दिया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं जिस पत्ती को आप बेकार समझ रहे हैं वह आपके बहुत काम आ सकती है। तो आइए जानते हैं की बची हुई चाय पत्ती आपके कैसे काम में आ सकती है।

– चाय पत्ती में एंटीआक्सीडेंट पाए जाते हैं। इसीलिए इसका इस्तेमाल घावों व चोटों पर किया जा सकता है। उबली हुई चायपत्ती को चोट पर लगाने से बहुत लाभ मिलता है। इसके इलावा चाय पत्ती के पानी से आप घाव को भी धो सकते हैं। यह आपको संक्रमण से भी बचाती है और घाव भी जल्दी भर जाता है।

tea for plants

– बची हुई चायपत्ती का इस्तेमाल खाद के रुप में भी किया जा सकता है। ऐसा करने के लिए चाय पत्ती को अच्छे से धो लें और इसे गमलों में डालले ऐसा करने से आपके पौधे बिल्कुल स्वस्थ हो जाएंगे।

– चाय पत्ती के इस्तेमाल से लकड़ी के फर्नीचर को भी चमकाया जा सकता है। बची हुई चायपत्ती को दोबारा उबाल लीजिए और इसे स्प्रे बोतल में डाल ले। अब इसे से लकड़ी से बने सामान की सफाई करें। ऐसा करने से फर्नीचर में शानदार चमक आ जाती है।

– इसका इस्तेमाल काबुली चना बनाने के लिए भी किया जा सकता है। ऐसा करने के लिए चाय पत्ती को अच्छे से सुखा लें। काबुली चने बनाते समय इसका इस्तेमाल करें। ऐसा करने से काबुली चने की रंगत बहुत अच्छी हो जाती हैं।tea

– चाय पत्ती से आप अपने घर की क्रोकरी भी चमका सकते हैं। क्रॉकरी को साफ करते समय चाय पत्ती में थोड़ा सा विम पाउडर मिला लें। आप देखेंगे कि आपकी क्रॉकरी पहले से ज्यादा निखर गई है।

– चाय पत्ती का उपयोग रूखे और बेजान बालों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। यह कुदरती कंडीशनर का काम करता है। जिससे बालों में पुनः चमक व बाल काफी मुलायम हो जाते हैं। इसका उपयोग करने के लिए चायपत्ती को अच्छे से धो लें और इसे दोबारा उबाल लें अब इस उबले हुए पानी को अपने बालों पर लगाएं। आप देखेंगे कि आपके बालों में नेचुरल चमक आ गई है।

admin Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *