कुछ ऐसे फायदे है हल्दी वाला दूध पीने के

कुछ ऐसे फायदे है हल्दी वाला दूध पीने के:Turmeric Milk

हल्दी और दूध दोनों ही सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। लेकिन जब इन्हें मिला कर इस्तेमाल में लाया जाता है तो उनके गुण दोगुने हो जाते हैं। ठंड के मौसम में तो यह किसी प्रकार की सुरक्षा कवच से कम नहीं है। दूध में लगभग सभी तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसीलिए तो इसे संपूर्ण आहार भी कहा जाता है। वहीं दूसरी तरफ हल्दी अपने एंटीबायोटिक और एंटीसेप्टिक गुरु के कारण बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है। परंतु जब इन्हें मिला लिया जाता है तो इनके अनेकों फायदे सामने आते हैं। जोकि कुछ इस प्रकार से हैं :-

सर्दी से बचाव
turmeric

दूध और हल्दी का मिश्रण सर्दी से बचाव के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। यह जुकाम को बड़ी आसानी से ठीक कर देता है और शरीर से कफ को बाहर निकाल देता है। दूध और हल्दी का मिश्रण वायरल संक्रमण होने से बचाने में भी आपकी मदद करता है।

हड्डियों की मजबूती के लिए

यह बात तो सभी जानते हैं कि दूध में कैल्शियम पाया जाता है। जोकि हड्डियों की मजबूती के लिए बहुत जरूरी है। यदि दूध और हल्दी को मिलाकर इस्तेमाल में लाया जाए तो इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि आ जाती है। और हड्डियों संबंधित अन्य समस्याओं से भी छुटकारा मिल जाता है।

ब्लड शुगर में
drink turmeric

यदि आपके खून में शुगर की मात्रा अधिक हो गई है तो हल्दी वाले दूध के सेवन से ब्लड मे शुगर के लेवल को नियंत्रित किया जा सकता है। लेकिन ऐसे में इसका अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए।

चोट लग जाने पर

चोट लग जाने पर हल्दी वाला दूध पीने से विशेष लाभ मिलता है। हल्दी चोट पर बैक्टीरिया को पनपने नहीं देती। इसीलिए शरीर में किसी भी तरह की बाहरी या अंदरूनी चोट लगने पर हल्दी वाला दूध पीने की सलाह दी जाती है। इसे चोट जल्द से जल्द ठीक हो जाती है।

जोड़ों के लिए फायदेमंद
milk drink turmeric

यदि किसी को जोड़ो से संबंधित समस्या रहती है तो उसे हल्दी वाले दूध का सेवन करना चाहिए। यह जकड़न, गठिया जैसी बीमारियों को दूर करता है। साथ ही इससे मांसपेशियों का लचीलापन भी बेहतर हो जाता है।

दर्द से आराम

कुछ लोगों को हाथ, पैर व शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द की शिकायत रहती है। ऐसे में रात को हल्दी वाला दूध पीकर सोने से शरीर के किसी भी प्रकार के दर्द से छुटकारा मिल जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!